Category: नया दौर

लघुकथा में कालदोष पर चर्चा – समय की मांग ! : सिद्धेश्वर

    “लघुकथा में कालदोष पर चर्चा – समय की मांग !”: सिद्धेश्वर~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~” बहुत अच्छी लघुकथाएं भी काल दोष से…

सोहल हरिंदर सिंह की कलाकृतियां एक अलौकिक दिव्य स्वप्न

    अलौकिक दिव्य स्वप्न का एहसास करा जाती हैं, सोहल हरिंदर सिंह की कलाकृतियां !”: सिद्धेश्वर   पटना :04/10/2021…

58 विशिष्ट साहित्यकारों का सम्मान – मथुरा

    तुलसी साहित्य संस्कृति अकादमी न्यास मथुरा भव्यता से मना साहित्यकार सम्मान समारोह एवं पुस्तक लोकार्पण कार्यक्रम तुलसी साहित्य…

दिनकर की कविताएँ हुंकार और भूचाल से ओत प्रोत

      समकालीन कविताएं दिनकर के युगधर्म, हुंकार और भूचाल से प्रभावित है !”.: सिद्धेश्वर °°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°° ” पुरोधा की…

देश गूंगा है राष्ट्रभाषा के बिना

    “राष्ट्रभाषा के बगैर हमारा आजाद देश आज भी गूंगा है!”-  सिद्धेश्वर ~~~~~~~~~~~~~~~~~~ “सरकार अपनी दृढ़ इच्छाशक्ति से इसे…