Spread the love

 

 

 

-नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’

गजल

प्यार सुबह है प्यार शाम है

प्यार तो मोहब्बत का जाम है !

 

प्यार दिन है प्यार रात है

प्यार तो रिमझिम बरसात है !

 

प्यार पूजा है प्यार दूजा है

प्यार तो आठवां अजूबा है !

 

प्यार आज है प्यार कल है

प्यार तो गंगाजल है !

 

प्यार खुशबू है प्यार गंध है

प्यार तो मन की सुगंध है !

 

प्यार राधा है प्यार कृषना है

प्यार तो हृदय की भावना है !

 

प्यार मन है प्यार दिल है

प्यार तो हर चमन का फूल है !

 

प्यार रूप है प्यार रंग है

प्यार तो जीवन संग है !

 

प्यार सांस है प्यार आस है

प्यार तो सबका विश्वास है !

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.