Spread the love

 

– राजीव कुमार

बदले हुए हालात का दम देखेंगे
बुरे दौर को कितना है भ्रम देखेंगे
जद्दोजहद से भी बड़ी कोई चीज है दुनिया में
उसका सुरत-ए-हाल सनम देखेंगे।

लहरों को लहना है समंदर में
साहिल को छुकर, फिर बहना है समंदर में
नाप लेंगे समंदर की गहराई और लहरों की उंचाई
देखना है क्या, फिर अपना करम देखेंगे।

  • बोकारो स्टील सिटी
    झारखण्ड
    भारत।
    9801001494

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.