Spread the love

-डा. जियाउर रहमान जाफरी 

बड़े -बड़ों की ये हस्ती उतार देती है
ग़रीबी बाप की पगड़ी उतार देती है
न जाने क्यों ये मेरा दिल धड़कने लगता है
वो जब भी हाथ की चूड़ी उतार देती है
कभी अदा, कभी आंखें कभी नज़र दे कर
ये ऐसा क़र्ज़ है लड़की उतार देती है
अमीरी फिरती है  मोटा बदन बनाए हुए
ग़रीबी जिस्म की हड्डी उतार देती है
किया जो प्यार तो नस्लें भी देख लीं मैंने
ये वो खता है जो बस्ती उतार उतार देती है
ज़रा करीब मेरे पास और आते हुए
वो अपने हाथ की मेंहदी उतार देती है
बड़े बुज़ुर्गों की ये बात याद है अब भी
बहुत हो खांसी तो हल्दी उतार देती है ।
– स्नातकोत्तर हिंदी विभाग,
 मिर्जा गालिब कॉलेज, गया, बिहार
823001
9934847941

Leave a Reply

Your email address will not be published.