Spread the love

– राजीव कुमार

प्रेम पथ कँटीला नुकिला
धार पे भी चलना पड़े
शोलों में भी चाहे जलना पड़े
चाहे प्यार का इम्तहान न रूकेगा
मगर प्यार का तूफान  न रूकेगा।

कुछ भी हो हालात के फैसले
कमजोर नहीं जज़्बात के फैसले
दिल ने लिए तेरे ख्यालात के फैसले
चाहे कभी जुल्म का फरमान न रूकेगा
मगर प्यार का तूफान  न रूकेगा।

कश्ती न सही, पतवार न सही
लहरों का हम पर अधिकार ही सही
खिजां में बदल जाए ये बहार ही सही
जलने वालों का चाहे आन न रूकेगा
मगर प्यार का तूफान  न रूकेगा।

– बोकारो स्टील सिटी
झारखण्ड।

Leave a Reply

Your email address will not be published.