Spread the love

 

हर बाधा से तुरंत निवारण, रेत -धूल- कंकड़ -पत्थर, सब सोना कर दूंगी !, जादूगरनी हूं मैं, जादू टोना कर दूंगी, आसमान के सूरज को भी  बौना कर दूंगी !”  गाजियाबाद की कवयित्री शैलजा सिंह ने जब नए साल के स्वागत में, इस तरह की  ओजस्व पूर्ण कविता का पाठ किया तो,  फेसबुक पर कमेंट करने वाले श्रोताओं का तांता लग गया l  मौका था गूगल मीट एवं फेसबुक के” रचनाकार” पेज पर  ” रचनाकार मंच “के बिहार इकाई द्वारा आयोजित,  ऑनलाइन स्व. दुर्गावती चौधरी स्मृति काव्य संध्या का l

इस गोष्टी के आरंभ में संस्थापक अध्यक्ष श्री सुरेश चौधरी दादा ने  अपनी एक प्रार्थना गीत सुनाते हुए कहा कि-”  बीते हुए वर्ष के बुरे समय को भूल कर एक नई कल्पना को साकार करने की  दिशा में,  ऐसी  साहित्यिक गोष्ठियों का बड़ा योगदान है l ”

हमारी सृजनशीलता को एक नया आयाम देने की कोशिश करता है, नए वर्ष का संकल्प !”: सिद्धेश्वर

————————————————————-

आसमान के सूरज को भी  बौना कर दूंगी !” : शैलजा सिंह

 

संस्था के सचिव कवि -चित्रकार सिद्धेश्वर ने पूरी गोष्ठी का सफल संचालन करते हुए कहा कि -”  नया साल हमारे लिए न‌ए लक्ष्य- न‌ए वादे – नए सपने लेकर आता है, जिसे हम अपनी सकारात्मक सोच से, एक नई दिशा दे सकते हैं ! ऐसी साहित्यिक गोष्ठियाँ,,  हमारे विचारधारा को नए साल में एक लक्ष्य को आत्मसात करने में सहायक साबित होती है और हमारी सृजनशीलता को एक नया आयाम देने की कोशिश करती है !  काव्य पाठ करते हुए उन्होंने कहा कि -”   ” जिंदगी तू मौत से घबराती क्यों है ? जीने के पहले तू मर जाती क्यों है ? रात को भला कैसे आएगी भरपूर रोशनी ! सूरज के सामने तू गिरगिराती क्यों है ?”

ऑनलाइन काव्य गोष्ठी में अच्छी कविताएं नहीं पढ़ी जाती,  ऐसी मनगढ़ंत विचार रखने वालों के लिए यह कवि गोष्ठी एक मिसाल के रूप में सामने आई,  जिसमें शामिल अधिकांश कवियों ने, आम  पाठकों के हृदय को छू लेने वाली कविताओं का पाठ किया,  और ऑनलाइन जुड़े ढेर सारे श्रोताओं ने  इसे पसंद भी किया ! इस यादगार कवि गोष्ठी में ऋचा वर्मा ने -” कल तक ठंढ़ दरवाजे पर खड़ी थी,बेताब थी, दहलीज लांघने को,जैसे ही घर का दरवाजा खुला,हवा के एक तेज झोंके के साथ,,आखिर प्रवेश कर ही गई घर के अंदर!”/ राज प्रिया रानी ने-” सागर की इक बूंद थी , थपेड़ा बनाया लहरों ने,मर्म हवा का झोंका थी ,तुफां उड़ाया फिजाओं ने,गीली माटी का गोला बनी ,तराशी गई हथेली से ,गुल में इक फूलखिली ,बारूद बनाया बजारों ने l “/ सुरेश वर्मा ने -” दुखी दिनों में सिसक-सिसक कर,मां का रोना याद मुझें,हमें खिलाकर खाली पेट खुद उसका सोना याद मुझें !” / डॉ के की कृष्ण ने -” मुझको चाहत नहीं फूलों की सेज की। तेरी बाहों में सर रख के सो जाएंगे,कोई ताने भी दे दे तो परवाह नहीं ।,बनके मीरा तो  तुम्ही में समा जाएंगे।।”/ लता सिन्हा ज्योतिर्मय ने-”  देवों की भूमि है भारत, सिद्धियों की भूमि भारत,भारत ये भूमि है हमारे श्री राम की,बारूद व गोले ले आतंकी बने फिरते हो,याद रखना कि यह भूमि है परशुराम की!”

रचना ‘पथिक ‘ने -” इस निस्सीम,प्रीत के दर की,हर आहट  ने  तुम्हें  उचारा.,सच कहती हूँ मेरे दिल की,हर धड़कन ने तुम्हें पुकारा.!” /आराधना प्रसाद ने-”  कैसा है आशिकी का मजा हमसे पूछिए ! पुरनूर जिंदगी का मज़ा हमसे पूछिए !, कहता रहा है प्यासा समंदर बारहां, ताउम्र तिश्नगी का मज़ा हमसे पूछिए !”/ आरती आलोक वर्मा ने-”  हंसकर मैं इस जहां को दिखाऊं तो किस तरह,चेहरे की मैं उदासी छुपाऊं तो किस तरह।,बैठे हैं बच्चे घर में खिलौनों की आस में,,घर अपने खाली हाथ मैं जाऊं तो किस तरह ?/अर्जुन कुमार गुप्ता ने -” कहां बिदुर के साग, कहां अब होली के हैं फाग। चबेना विप्र सुदामा का अब कहां मुझे बतला दो, शबरी के वे बेर मुझे अब ढूंढ के ला दो।।” जैसी उम्दा रचनाओं का-” पाठ किया !

अंत में धन्यवाद ज्ञापन किया श्री सुरेश चौधरी दादा ने ! 000

  • प्रस्तुति : आराधना प्रसाद,  अध्यक्ष : रचनाकार /बिहार इकाई/(मोबाइल ;9234760365)
  • पटना 29/12/2021 !”

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *